शनिवार, 22 जून 2013

तीन दोहे

सागर सा धीर वीर जन ,रखे मर्यादा ध्यान !
आप आ जा सागर में , हरदम एक समान !!१!!
सब विकार बिहाइ पाय ,जल नदी से सागर !
विकार जन नसाय जाय ,ज्यो छेद से गागर !!२!!
चयन कर निज विचार से ,देकर अपना साथ !
बात पूरी सुचार से , नहीं टेक कर माथ !!३!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें