रविवार, 18 जनवरी 2015

अति अनुरागी

सब जगह एकसी न सही पर अनूठी होती।
सागर गागर रेगिस्तान मैदान सबमें मोती।
अति अनुरागी खोज लेते हैं अंधेरेमें जोती।
पिपासु जिज्ञासु की आस आस नहीं खोती।
अति अनुरागी पा जाते हैं अंधेरे में रोशनी।
एक बूँद गुनकारी जो दुःख दाघ विमोचनी।
चिंगारी जू फैलाये मान बन जहाँमें माननी।
जगाती जगमगाती भाग बना बड़ भागिनी।
अति अनुरागी दोजख़ दुःख दाह लीन हो।
ज़न्नत सा सँवारते बनाते रचाते स्थान हो।
तज सहज कटुता मृदुता लाते कामार हो। सिंधु थाह ले वीर चीर फाड़ दे पहाड़ हो।
ऐसी जो तमन्ना सबमें तो न बुरा काम हो।
शत्रु न उठाय नज़र जब एक आवाज हो।
अति अनुरागी देशहित त्यागे सर्वस्य हो।
परहित होते ही हो जाय स्वहित काम हो।
इंद्रा सा न हो लोभी कामी अति अनुरागी। 
राम-भरत अनुरागी राज पाठ सब त्यागी।
बेड़ा गर्त हो जाने से पर्वू ही होजा विरागी।
तपी शिव से सीखे होना अनुरागी-विरागी।
अति अनुराग सिखावत जगावत पढ़ावत।
मिलावत सच्चा सुख प्रेम  रंग मा डूबावत।
न्यौछावर स्व पर पर करा त्यागी बनावत।
स्व से ऐसे माँ भारती की आरती करावत।

2 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (19-01-2015) को ""आसमान में यदि घर होता..." (चर्चा - 1863) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति अनुरागी सब कर लेते हैं जो आम आदमी के बस में नहीं होता ...लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं